मिलिए हिंदी में फैसला सुनाने वाले हाई कोर्ट जजों से

 हाईकोर्ट  का ज्यादातर कामकाज आज भी अंग्रेजी में ही होता है पर ऐसे जज भी इन कोर्टों में मौजूद है जो अपना फैसला हिंदी में सुनाते हैं ताकि मुवक्किल उसे आसानी से समझ सके।

ऐसे जजों मे इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज डा. गौतम चौधरी का बड़ा नाम है जो अपने बीस महीने के कार्यकाल में अब तक दो हजार से ज्यादा फैसले हिंदी में सुना चुके हैं और इसमें अंतरिम फैसले से लेकर अंतिम फैसला तक शामिल है।

एकल पीठ में तो वो हिन्दी में ही फैसला देते हैं और हर रोज कोई तीस फैसले तो वे हिंदी में सुनाते ही हैं।

उनके अलावा  इलाहाबाद हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति सौरभ श्याम शमशेरी, न्यायमूर्ति शेखर कुमार यादव आदि भी हिंदी में  निर्णय सुनाते हैं पर इन जजों के सामने सबसे बड़ी समस्या यह आती है कि  हिंदी का एक-एक स्टेनो ही है और भले ही हिंदी राजभाषा हो पर इस दिक्कत को दूर करने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा।

Subscribe to our Newsletter