जासूसी मामले में विपक्षी सांसदों के सांसद परिसर में प्रदर्शन

पेगासस जासूसी मामले पर आज यानि शुक्रवार को विपक्षी कांग्रेस, डीएमके और शिवसेना के सांसदों ने गांधी की मूर्ति के पास प्रदर्शन किया।

वहीं कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने आईटी मंत्री की सफाई को नाकाफी बताते हुए  कि इस पर सदन में चर्चा होनी चाहिए फिर मंत्री सवालों का जेब दें यहां हम उनका प्रवचन सुनने नहीं आए हैं।

ग़ौरतलब है कि एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया संघ की रिपोर्ट है कि स्पाइवेयर की मदद से  दो केंद्रीय मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, तीन विपक्षी नेताओं और एक मौजूदा न्यायाधीश सहित 300 से अधिक मोबाइल फोन की बातचीत सुनी जा रही है।

पेगासस से जासूसी के दायरे में आने वालों के नाम हर दिन बढ़ते जा रहे है और अब रिलायंस के अनिल अंबानी, सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा और दो अन्य वरिष्ठ अधिकारी, पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के साथ साथ तिब्बती धार्मिक नेता दलाई लामा के नाम भी मीडिया रिपोर्ट में सामने आ चुके हैं।