सुप्रीम कोर्ट को मौजूदा कावड़ यात्रा नामंजूर, केंद्र ने भी पल्ला झाड़ा

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश की कावड़ यात्रा पर सख्त रुख अपनाते हुए योगी सरकार से इसपर फिर से विचार करने को कहा है जबकि केंद्र ने भी इस फैसले से पल्ला झाड़ते हुए माना है कि लोगों के जीवन के साथ किसी तरह का समझौता मंजूर नहीं।

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि लोगों का स्वास्थ्य और जीवन का अधिकार सर्वोपरि है, अन्य सभी भावनाएं  इसके बाद हैं जिसमें धार्मिक सोच भी शामिल है।

सुप्रीम कोर्ट ने  कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार से सोमवार को अपने फैसले से कोर्ट को अवगत कराए नहीं तो हम फैसला लेंगे।

वहीं केंद्र  की मोदी सरकार ने भी देश की सबसे बड़ी अदालत में हलफनामा दायर करके कहा है कि लोगों के जीवन से किसी भी तरह के खतरे के साथ वो नहीं है और लोगों को कावड़ में हरिद्वार से  'गंगा जल' लाने  की इजाजत नहीं दी जा सकती। 

केंद्र का खाना है कि सरकारें चाहें तो टैंकर से 'गंगा जल' उपलब्ध करा सकती हैं।